“समुदंर ए मोह्ब्बत मे कुछ ऐसा डुबा की आज भी मोहब्बत का गीलापन मेह्सुस होता है”

-अभिजीत

Advertisements