हा है बचपना मुजमे इसिलिये तो खुश हुं…
क्या उखाड लिया तुमने गंभिर हो के….!!!

– अभिजीत

Advertisements